हम गायों की रक्षा करते हैं

हिंदू धर्म मे गाय को माँ का दर्जा दिया गया है| गौमता अपने पूरे जीवन आपको दूध पिलाती है परंतु आज वही गौमता कतलखानो काटी जाती है| वही गौमता आज सड़को पर आवारा घूमती है इसलिए गौमता की रक्षा करना हमारा धर्म व कर्तव्य है|

हम जीवन बचाते है

जरूरतमंदों की मदद करना भगवान की पूजा करने का सबसे अच्छा तरीका है। हम यहां श्री राम गोशाला सेवा समिति में एक अस्पताल चलाते हैं जिसका उद्देश्य लोगो के स्वास्थ्य की देखबल करना है | मानव या पशु, कभी किसी को भी इनकार नही किया जाता।

हमारी दृष्टि

श्रीराम गोशाला सेवा समिति एक गोशाला और एक अस्पताल संचालित करती है। हमारी दृष्टि यह है कि जितना संभव हो उतने छोड़ दिए जाने वाले गायों को मदद करना, जितना संभव हो उतने रोगग्रस्त लोगों का इलाज करना और इस संगठन को स्व-स्थायी बनाना।

हमारे बारे मे

श्रीराम गोशाला को वर्ष २०१३ में गोमता को बचाने और मानवता की सेवा करने के लक्ष्य से स्थापित किया गया था। तब से श्रीराम गोशाला सेवा समिति असहाय गायों और जरुरत्मन्दो की सहायता करती रही है।

235

पशु

5

सेवक

24

मरीज़ों की मदात

यह कैसे और क्यों

शुरू हुआ ?

राजस्थान में सबसे अधिक व्यापक और अदृश्य थार रेगिस्तान शामिल है जो कि रहने के लिए एक कठोर स्थान है। राजस्थान में पानी की कैसरस स्पष्ट है। यह क्षेत्र विशेष रूप से छोड़ दिया गये जानवरों पर कठोर है, जिनके मालिक अब उन्हें रख नही सकते हैं। परित्यक्त पशु या तो मौत तक भूखे हैं या फिर उन्हें छोड़ दिया जाता है। गांव दूर हैं और बुनियादी चिकित्सा सुविधाएं भी उपलब्ध नहीं हैं।

श्रीराम गोशाला

एक नया घर, हर जरूरतमंद वृढ़ और छोड़ दी गई गायों के लिए।

श्रीराम अस्पताल

हर जरूरतमंद के लिए नि: शुल्क चिकित्सा सुविधा

सा नो मंद्रेषमूर्जम् दुहाना । धेनुर्वा गस्मानुष सुष्टुतैतु ॥

अथर्ववेद

गावः श्रेष्ठाः पवित्राश्च पावनं ह्येतदुत्तमम् ॥

महाभारत
अनुशासन पर्व 83-3

गावो बंधुर्मनुष्याणां मनुष्याबांधवा गवाम् । गौः यस्मिन् गृहेनास्ति तद्बंधुरहितं गृहम् ॥

पद्म पुराण

हमसे जुड़ें. गौमता को बचाने के इस महान कार्य मे अपना योगदान दे

संदेश भेजें


छवियाँ और वीडियो गैलरी